स्वागतम

"मेरे अंतर का ज्वार, जब कुछ वेग से उफ़न पड़ता है,
शोर जो मेरे उर में है,कागज पर बिखरने लगता है |"
ये अंतर्नाद मेरे विचारों की अभिव्यक्ति है, जिसे मैं यहाँ आपके समक्ष रख रहा हूँ |
साहित्य के क्षेत्र में मेरा ये प्रारंभिक कदम है, अपने टिप्पणियों से मेरा मार्ग दर्शन करें |

मंगलवार, 31 अगस्त 2010

श्रीकृष्ण जन्म : तमसो मा ज्योतिर्गमय के आधार


भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव विक्रम संवत 2067 के भाद्रपद महीने के अष्टमी तिथि को सम्पूर्ण विश्व में हिन्दू धर्मावलम्बियों द्वारा मनाया जा रहा है | ईसाई पंचांग के अनुसार यह शुभ दिन 01-02 सितम्बर 2010 को है |

पुराणानुसार भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद महीने के कृष्णपक्ष में अष्टमी तिथि को हुआ था | वासुदेव और देवकी की यह आठवीं सन्तान विश्व कल्याणार्थ अवतरित हुयी | कहा जाता है रोहिणी नक्षत्र के जातक पतले, स्वार्थी, झूठे, सामाजिक, मित्राचार वाले, दृढ़ मनोबल वाले, बुद्धिशाली, पद-प्रतिष्ठा वाले, रसवृत्ति वाले, सुखी, संगीत कला इत्यादि ललित कलाओं में रस रखने वाले, देव-देवियों में आराध्य वाले मिलते हैं। रोहिणी नक्षत्र में जन्म का ही असर था की भगवान श्रीकृष्ण में ये सारे गुण मौजूद थे |

संसार को ज्ञानयोग और कर्मयोग की दिव्य ज्योति दिखानेवाले का जन्म कृष्णपक्ष कि अंधियारी रात में हुआ | ज्योति की कोई किरण न रहे इसलिए प्रभु ने तूफान भी उठा दिया | प्रकाश का अवतरण तमस के कोख से हुआ |

जहाँ तक जन्म की प्रक्रिया को समझें तो इसकी रहस्यमय गुत्थी में उलझ सकते हैं | यह नितांत सत्य है की किसी का भी जन्म प्रकाश में नहीं हो सकता | एक बीज जमीन के अँधेरे में ही पनपता है, अंकुरण भूगर्भ में ही होता है जहाँ अँधेरे का साम्राज्य होता है | अमृत का उद्भेद समुन्द्र के गहन से ही हुआ है | कवि अपने कल्पना के गहराई में ही पैठ लगता है जहाँ सूर्य की किरणें नहीं जा सकतीं | घनघोर अँधेरे में ही प्रकाश का उद्भव सार्थक होता है |

कारागृह में जन्म, एक बंधन का सूत्र है | सभी जन्म लेते हैं, एक बंधन मिलता है, सामाजिक और वैचारिक कारागृह की | और अंत में सभी मुक्त भी होते हैं | जीवन और मरण के बीच यह कारागृह ही होता है, जो संसार के हर बाधाओं को झेलने की प्रेरणा देता है, एक राह देता है | कारागृह एक शर्त है, बंधन एक शर्त है क्योंकि जन्म के बाद प्रतिपल मृत्यु संभावी है | प्राण का शारीर में प्रवेश ही एक कारागृह में प्रवेश है जो मृत्युपरांत ही बंधन मुक्त होती है |

जन्म के बाद प्रतिपल मृत्यु का भय है, और यहाँ भगवान को तो अपने मामा कंस के द्वारा मारा जाना निश्चित था | मृत्यु हर संभावी थी मगर उन्होंने खुद को मुक्त कर लिया | मृत्यु से मुक्ति होती है, किसी को इसी कारागृह में तो किसी को मुक्त आकाश तले |

वृन्दावन के आनंद धाम में कृष्ण मुक्त तो रहे मगर कंस के द्वारा भेजा हुआ मौत उनतक आता रहा और हारता रहा | तात्पर्य यह है की मृत्यु हर एक रूप में आती है मगर हारती है | जीवन और मृत्यु का संघर्ष चलता ही रहता है | कुछ लोग खुद हार जाते हैं तो कुछ जीवन को इस संघर्ष से मुक्ति का मार्ग दिखाते हैं | समाधी लेते हैं,परिनिर्वाण करते हैं |

कंस के तामसिक साम्राज्य का अंत हो या महाभारत की कुरीतियों अन्यायों का, कृष्ण हर जगह मौजूद रहे | कृष्ण का शाब्दिक अर्थ काला ही नहीं होता, केंद्र भी होता है | अर्जुन के ज्ञान चक्षुओं को खोलने वाले कृष्ण ही दोनों सेनाओं में थे | अर्जुन ने तो विराट रूप में सिर्फ कृष्ण को ही देखा, महाभारत में वही आदि वही अंत बने रहे | कृष्ण एक शक्ति है जो हमारे शरीर में केन्द्रित है | हमारे जन्म-मरण के बीच का केंद्र जो जीवन के समस्त क्रियाविधियों को अपने गुरुत्वीय बल से संतुलित रखता है | अंधकार और प्रकाश के बीच की वो कड़ी जो हर टिमटिमाते दीये की लौ में तेज भरता है | काले कृष्ण कि प्रकाशमयी लीलाएं, मानव जीवन को सद्मार्ग दिखाती हैं |

कृष्ण एक महाकाव्य हैं जिसकी हर एक पंक्ति गूढ़ रहस्य समेटे है | जीवन का सरल सूत्र रुपी मोती इस महाकाव्य के सागर में पैठने पर मिल सकता है | भगवान श्रीकृष्ण आपके जीवन नैया के खेवनहार हैं, आपको हर मझधार से उबारें और आगे बढायें |

जय श्री कृष्ण !!!

5 टिप्‍पणियां:

  1. मेरी और से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरी और से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कृष्ण जन्माष्टमी के मंगलमय पावन पर्व अवसर पर ढेरों बधाई और शुभकामनाये ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. 1 - 2 August nahi September ko hai

    | ईसाई पंचांग के अनुसार यह शुभ दिन 01-02 अगस्त 2010 को है |

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुदर्शन जी बहुत बहुत धन्यवाद गलती कि ओर ध्यानाकर्षण के लिए | सुधर कर दिया है | त्रुटी के लिए खेद है

    उत्तर देंहटाएं